Afghanistan में दो सप्ताह से पड़ रही कड़ाके की ठंड, 100 से अधिक लोगों की हुई मौत

काबुलः अफगानिस्तान में तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार ने सोमवार को पुष्टि की है कि ठंड के मौसम और भारी बर्फबारी के बीच पिछले दो हफ्तों में महिलाओं और बच्चों सहित कम से कम 104 लोगों की मौत हो गई है। एक समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, प्राकृतिक आपदा प्रबंधन और मानवीय मामलों के मंत्रलय के प्रवक्ता शफीउल्लाह रहीमी ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि ताखर, बदख्शां, निमरोज, कंधार, लगमन, गजनी, उरुजगन, जावजान, सारी पुल, फरयाब, पक्तिका, बल्ख, समांगन और बामियान से लोगों के मरने की खबर है। भुखमरी से जूझ रहे अफगानिस्तान में जहां कोई हीटिंग सिस्टम नहीं है, लोग अक्सर खुद को गर्म रखने के लिए कोयला, लकड़ी या तरल गैस का उपयोग करते हैं, जो कई मामलों में गैस रिसाव या कार्बन मोनोऑक्साइड के कारण लोगों की मौत का गंभीर कारण है।

अफगानिस्तान के कुछ हिस्सों में जनवरी के पहले सप्ताह से अत्यधिक ठंड का मौसम और बर्फबारी हुई है, जहां देश के कुछ क्षेत्रों में तापमान शून्य से 30 डिग्री सेल्सियस नीचे गिर गया। पिछले हफ्ते, अफगानिस्तान में मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय ने कहा था कि ठंड के मौसम के कारण पशुओं के नुकसान ने 21 मिलियन से अधिक लोगों के परिवारों के लिए एक और जोखिम पैदा कर दिया है, जिन्हें तत्काल भोजन और कृषि सहायता की आवश्यकता है। हाल ही में संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान की आधी आबादी तीव्र भुखमरी का सामना कर रही है और जबकि संघर्ष कम हो गया है, हिंसा, भय और अभाव बना हुआ है।