तिब्बती चाकू कौशल समृद्ध जीवन बनाता है

चीन के तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के शिगात्से शहर के लाजी टाउन के लाजी गांव में पुडावा नाम का एक गांववासी है। वह तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के स्तर पर अमूर्त सांस्कृतिक विरासत लाजी तिब्बती चाकू बनाने के कौशल के उत्तराधिकारियों का प्रतिनिधि है। वह अपने परिवार में तिब्बती चाकू बनाने के कौशल की छठी पीढ़ी का उत्तराधिकारी भी है।

पुडावा द्वारा बनाये गये तिब्बती चाकुओं की पूरी प्रक्रिया को हाथों से पूरा किया जाता है। उनके बेटे दोरजी चेनतुई को अपने पिता का व्यवसाय विरासत में मिला और शिगात्से में लाजी तिब्बती चाकू बनाने के कौशल की शहरीय अमूर्त सांस्कृतिक विरासत का एक उत्तराधिकारी बन गया। 2018 में, पिता और पुत्र ने एक सहकारी संस्था की स्थापना की और तिब्बती चाकू बनाने के कौशल को विरासत में ग्रहण किया और एक साथ समृद्ध जीवन बनाने के लिए गरीब लोगों समेत 18 प्रशिक्षुओं की भर्ती की।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)