पिछली सरकार ने Himachal पर छोड़ा 75 हजार का कर्ज, पटरी पर लाने के लिए लगेंगे 4 साल : CM Sukhvinder Sukhu

Spread the News

हमीरपुर : मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने जिलामुख्यालय पर पूर्ण राज्यत्व दिवस के कार्यक्रम के समापन के मौके पर अनौपचारिक मीडिया से रू-ब-रू होते हुए पिछली भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि जयराम ठाकुर को चुनावों से ठीक 6 माह पहले पता नहीं कहां से ऐसी दिव्य शक्ति आई कि वह संस्थानों को ही खोलने लग पड़े, जो बिना बजट के थे। कॉलेजों-शिक्षण संस्थानों में तो केवल वाटर कैरियर ही तैनात थे। भाजपा सरकार हिमाचल को वित्तीय बोझ से दबा कर गई है। 75,000 करोड का कर्ज छोड़कर गई है। अभी पेंशनर्स और कर्मचारियों को छठे वेतन आयोग के एरियर-भत्ते दिए जाने हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल को पटरी पर लाने के लिए 4 साल का समय लगेगा। उन्होंने कहा कि सीमेंट कारखानों को लेकर मालिक और ट्रक ऑपरेटरों के बीच मनमुटाव चल रहा है। इस मामले पर वह खुद एक दिन में फैसला लेंगे कि हमें किस दिशा में बढ़ना है। क्योंकि ट्रक ऑपरेटरों की आजीविका का भी ख्याल रखना सरकार का दायित्व है। उनके खर्चे और जो ऋण उन्होंने लिए हैं उनके परिवार चलाने को लेकर आर्थिक परेशानी न हो, इसका ध्यान भी रखना बेहद जरूरी है।

मुख्यमंत्री सुक्खू ने कहा कि उद्योग मंत्री ने भी वार्ता में शामिल होकर मामला हल होने को लेकर बात की थी, लेकिन ट्रक मालिक किराया कम करने पर राजी नहीं हैं। ऐसे में जो भी सही रास्ता होगा उसको लेकर सरकार आगे बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 500 मेगावॉट की शो योजनाएं स्थापित की जाएंगी। आगामी वित्तीय वर्ष से इस पर कार्य शुरू हो जाएगा। नई निवेश नीति बनाई जाएगी युवाओं को रोजगार शुरू करने के लिए बिना ब्याज के ऋण प्रदान किया जाएगा।