लैटिन अमेरिकी और कैरिबियन देशों के समुदाय के 7वें शिखर सम्मेलन में शीचिनफिंग का वीडियो भाषण

Spread the News

लैटिन अमेरिकी और कैरिबियन देशों के समुदाय (सीईएलएसी) का 7वां शिखर सम्मेलन 24 जनवरी को अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में आयोजित हुआ। सीईएलएसी के घूर्णन अध्यक्ष के रूप में अर्जेंटीना के राष्ट्रपति अल्बटरे फर्नांडीज के निमंत्रण पर चीनी राष्ट्रपति शीचिनफिंग ने सम्मेलन में वीडियो भाषण दिया। शी चिनफिंग ने कहा कि लैटिन अमेरिकी और कैरिबियन देश विकासशील देशों के महत्वपूर्ण हिस्से हैं, और वे वैश्विक शासन में सक्रिय भागीदार और योगदानकर्ता भी हैं। सीईएलएसी वैश्विक दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए एक अनिवार्य प्रेरणा शक्ति बन गयी है।उसने क्षेत्रीय शांति बनाए रखने, सामान्य विकास को बढ़ाने, क्षेत्रीय एकीकरण को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
शीचिनफिंग ने जोर देकर कहा कि चीन हमेशा लैटिन अमेरिका और कैरिबियन की एकीकरण प्रक्रिया का समर्थन करता है, सीईएलएसी के साथ संबंधों के विकास को बहुत महत्व देता है, और सीईएलएसी को विकासशील देशों की एकता को मजबूत करने और दक्षिण-दक्षिण सहयोग को बढ़ावा देने के लिए एक महत्वपूर्ण भागीदार मानता है।

इस मूलमंशा के साथ चीन लैटिन अमेरिका के साथ चीन-लैटिन अमेरिका मंच के निर्माण को लगातार मजबूत करता है और चीन-लैटिन अमेरिका संबंधों को समानता, आपसी लाभ, नवाचार, खुलेपन और लोगों की भलाई के नए युग में बढ़ावा देता है।अधिक से अधिक क्षेत्रीय देश चीन के साथ सहयोग करते हुए “बेल्टएंडरोड” के उच्च गुणवत्ता वाले सहनिर्माण को बढ़ावा देते हैं, वैश्विक विकास पहल और वैश्विक सुरक्षा पहल में समर्थन देते है या भाग लेते हैं, और चीन-लैटिन अमेरिका साझा भाग्य समुदाय का निर्माण करने में चीन के साथ हाथ मिलाते हैं।

शी चिनफिंग ने कहा कि वर्तमान में, दुनिया उथल-पुथल और परिवर्तन की नई अवधि में प्रवेश कर रही है।केवल एक जुटता और सहयोग को मजबूत करने से ही हम चुनौतियों का सामना कर सकते हैं और कठिनाइयों को दूर कर सकते हैं।
चीन लैटिन अमेरिकी और कैरिबियन देशों के साथ हाथ मिलाकर एक दूसरे की मदद करने, शांति, विकास, निष्पक्षता, न्याय, लोकतंत्र के सभी मानव जाति के सामान्य मूल्य का विकास करने, विश्व शांति और विकास को बढ़ाने, मानव साझे भाग्य समुदाय के निर्माण को बढ़ाने को तैयार है, ताकि संयुक्त रूप से बेहतर भविष्य बनाया जा सके।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप,पेइचिंग)