हरियाणा परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने Republic Day पर दी बधाई, कहा-संविधान ने दिलाया समानता का अधिकार

Spread the News

हरियाणा के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने गणतंत्र दिवस समारोह की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज हम 74वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं । सन 1950 में आज ही के दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। इसी संविधान के कारण हम सभी को समान न्याय, स्वतंत्रता एवं समानता का अधिकार मिला है। उन्होंने बाबा साहेब डा. भीमराव अंबेडकर सहित संविधान सभा के सभी सदस्यों को नमन करते हुए कहा कि गणतंत्र दिवस के साथ हमारे देशभक्तों के त्याग और बलिदान की एक लंबी गौरवगाथा जुड़ी हुई है । देश को आजादी दिलाने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी , नेताजी सुभाष चंद्र बोस , शहीद भगत सिंह , राजगुरु , सुखदेव , चंद्रशेखर आजाद और उधम सिंह जैसे अनेक स्वतंत्रता सेनानियों ने लम्बा संघर्ष किया। आजादी की लड़ाई में हरियाणा प्रदेश का भी अहम योगदान रहा है । आज भी हरियाणा के नौजवान सेना में भर्ती होना अपनी शान समझते हैं । यही कारण है कि आज भारतीय सेना का हर दसवां जवान हरियाणा से है ।

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि सरकार द्वारा युद्ध के दौरान शहीद हुए हरियाणा के सैनिकों और अर्ध – सैनिक बलों के जवानों की अनुग्रह राशि 20 लाख रुपये से बढ़ाकर 50 लाख रुपये को गई है । सरकार द्वारा शहीदों के 365 आश्रितों को सरकारी नौकरियां दी गई हैं । हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में मौजूदा सरकार सबका साथ – सबका विकास के मूलमंत्र पर प्रदेश के हर क्षेत्र का समान विकास करवाने के लिए प्रयासरत है । राज्य सरकार ने व्यवस्था परिवर्तन एवं सुशासन के पथ पर चलते हुए कई अनूठी पहल की हैं । प्रदेश में हर व्यक्ति को उसके घर – द्वार पर ही सरकार की योजनाओं व सेवाओं का लाभ मिले , इसके लिए विभिन्न विभागों की योजनाओं व सेवाओं को ऑनलाइन किया जा रहा है ।

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि मेरा परिवार – मेरी पहचान कार्यक्रम के तहत सभी परिवारों के परिवार पहचान पत्र बनाए जा रहे हैं । पी.पी.पी. पोर्टल पर अब तक लगभग 72 लाख परिवारों का पंजीकरण हो चुका है । इनमें से अब तक 64 लाख 85 हजार से अधिक परिवारों का डाटा सत्यापन हो चुका है । राज्य सरकार द्वारा सामाजिक सुरक्षा पेंशन को परिवार पहचान – पत्र से जोड़ा गया है । देश में पहली बार बी.पी.एल. परिवारों को ऑनलाइन राशन कार्ड देने की सुविधा शुरू की है । प्रदेश के सबसे गरीब परिवारों का जीवन स्तर ऊंचा उठाने के लिए मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना चलाई जा रही है । इसके तहत सबसे गरीब परिवारों की पहचान करके उनकी वार्षिक आय कम से कम 1.80 लाख रुपये की जाएगी । ताकि ज्यादा से ज्यादा परिवारों को गरीब कल्याण से जुड़ी योजनाओं का लाभ मिल सके।

चिरायु योजना के तहत 1 लाख 80 हजार रुपये से कम वार्षिक आय वाले लगभग 13 लाख नए परिवारों को मुफ्त इलाज की सुविधा मिल गई है। हरियाणा देश का पहला राज्य हैं , जहां 500 प्रकार की दवाइयां और 319 प्रकार के ऑपरेशन मुफ्त कराए जा रहे हैं। एनीमिया मुक्त भारत कार्यक्रम में हरियाणा को देश में प्रथम स्थान मिला है।अंत्योदय परिवारों की स्वास्थ्य जांच के लिए निरोगी हरियाणा योजना भी शुरू की है। जिन गरीब परिवारों की वार्षिक आय 1 लाख 80 हजार रुपये वार्षिक से कम है , उन बेघर परिवारों का सर्वेक्षण कर उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत प्राथमिकता के आधार पर मकान दिए जाएंगे।