Chhath Puja, Delhi, DDMA guidelines

Delhi में सार्वजनिक स्‍थानों पर नहीं मना सकेंगे छठ पूजा, DDMA ने त्योहारों के लिए जारी की गाइडलाइंस

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस महामारी को ध्यान में रखते हुए इस साल भी छठ पूजा का आयोजन सार्वजनिक स्थलों पर नहीं किया जाएगा। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है। त्योहारों  को लेकर DDMA ने नई गाइडलाइंस जारी की हैं जो कि 15 नवंबर तक प्रभावी रहेंगी।

DDMA ने गुरुवार को जारी अधिसूचना में बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए एक प्रयास के तहत फैसला लिया गया है कि छठ पूजा के मौके पर सार्वजनिक स्थानों, नदियों के घाटों, मैदानों और मंदिरों आदि में पूजा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। लोगों से आग्रह है कि वे छठ पूजा का त्योहार अपने-अपने घरों पर मनाएं।

रामलीला व दूर्गा पूजन के लिए दिशा-निर्देश 
DDMA ने बुधवार को बैठक में स्पष्ट किया है कि रामलीला व दूर्गा पूजन के दौरान मेले का आयोजन नहीं किया जाएगा। साथ ही आयोजन स्थल पर केवल सीटों की संख्या के अनुसार ही लोगों को आने की अनुमति होगी। वहीं, किसी भी तरह के खाने-पीने के स्टॉल लगाने के लिए भी मनाही की गई है। आयोजकों को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि आयोजन स्थल पर 100 फीसदी लोगों ने मास्क अनिवार्य रूप से लगा रखा हो। वहीं, आयोजन स्थल पर प्रवेश व निकासी के लिए अलग से गेट बनाने होंगे। बता दें कि दिल्ली में प्रदूषण को देखते हुए पटाखों पर पहले से ही बैन लगा दिया गया है। मतलब इस बार भी दिवाली पर पटाखे नहीं चलेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 15 सितंबर को ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी। 

Live TV

-->

Loading ...