#Himachal Pradesh #cabinet meeting #restrictions #Jai Ram Thakur #Dainik Savera No1 News #Dainik Sav

हिमाचल प्रदेश : मंत्रिमंडल की बैठक में आज होगा बंदिशों को लेकर फैसला

शिमला: सूबे में कोरोना की बंदिशें बढ़ सकती हैं। कोरोना संक्रमण के मामलों की बढ़ती रफ्तार के मद्देनजर सरकार बंदिशों को बढ़ाने पर फैसला ले सकती है। हालांकि अभी तक यह साफ नहीं है कि सरकार वीकेंड कर्फ्यू लगाएगी अथवा नहीं, मगर वीकेंड कर्फ्यू लगाए जाने की स्थिति में लोगों की दिक्कतें बढ़ना तय है। खासतौर पर रोजाना काम कर रोटी कमाने वालों के साथ-साथ पर्यटन व परिवहन सेक्टर को इससे बड़ा झटका लगने का अंदेशा है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा है कि कोरोना के बढ़ते मामले चिंता बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वीरवार के कोरोना संक्रमण के बाद सरकार शुक्रवार को मंत्रिमंडल की बैठक में बंदिशों को लेकर फैसला लेगी। अलबत्ता उन्होंने साफ कहा कि प्रदेश कोरोना से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। 

पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की वजह लोहड़ी का पर्व भी सादगी के सात मनाया गया है। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि विधायक की पत्नी द्वारा की गई प्रैसवार्ता की उन्हें जानकारी नहीं। इस मामले में कानून अपना काम करेगा। सनद रहे कि भाजपा विधायक विशाल नैहरिया की पत्नी ने पत्नकार वार्ता कर विधायक पर गंभीर आरोप लगाए थे। 

उधर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज राज्यों के मुख्यमंत्रियों केंद्र शासित प्रदेशों के उप राज्यपालों एवं प्रशासकों के साथ आयोजित वर्चुअल बैठक के दौरान देश में कोविड-19 महामार की स्थिति की समीक्षा करते हुए अधिकांश राज्यों में संक्रमण के मामलों में हुई वृद्धि पर चिन्ता व्यक्त की। मुख्यमंत्नी जयराम ठाकुर ने शिमला से वर्चुअल माध्यम से बैठक में भाग लिया। प्रधानमंत्री ने इस महामारी से घबराने के बजाय सतर्क रहने की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि इस महामारी की रोकथाम पर अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए और वायरस की जितनी अधिक जॉंच करने में हम सफल हों गए यह सभी के लिए उतनी ही राहत की बात होगी। 

केन्द्रीय गृह मंत्नी अमति शाह ने बैठक का संचालन किया।केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने देश में कोविड की अद्यतन स्थिति पर प्रस्तुति भी दी। वीडियो कांफ्रैंस के बाद राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक में मुख्यमंत्नी जयराम ठाकुर ने गृह संगरोध के लिए प्रभावी तंत्न विकिसत करने के निर्देश देते हुए कहा कि राज्य में अधिकांश संक्रमित लोग गृह संगरोध में हैं। उन्होंने रोगियों के घर से स्वास्थ्य संस्थानों तक परिवहन की बेहतर व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए ताकि आवश्यकता पड़ने पर उन्हें तत्काल उपचार की सुविधा प्रदान की जा सके। 

जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य में कोविड-19 संक्रमण के मामलों में तीव्र वृद्धि चिन्ता का विषय है, लेकिन प्रदेश सरकार किसी भी विपदा से निपटने के लिए पूर्ण रूप से तैयार है। उन्होंने कहा कि राज्य में 11 हजार 500 बिस्तर क्षमता उपलब्ध हैए जिसे 17 हजार तक बढाया जा सकता है। इसके साथ ही 2374 ऑक्सीजनयुक्त समर्पित बिस्तर , 8765 कोविड बेड्स, 237 आईसीयू बिस्तर और 1014 वैंटिलेटर उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में वर्तमान में 59.37 एमटी ऑक्सीजन क्षमता के 48 पीएसए संयंत्न, 2100 ए.टाइप सिलैंडर, 5009 बी.टाइप सिलैंडर 1112 डी. टाइप सिलैंडर और 5723 कंसंट्रेटस उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में पीसीएम 650, पीसीएम 500, रैमडेसिविर, डेक्सामिथाजॉन, हाइड्रो कॉर्टिसन इत्यादि आवश्यक दवाएं पर्याप्त मात्र में उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि उपभोगीय पीपीई किट्स और एन95 मास्क का भी पर्याप्त भण्डारण प्रदेश में किया गया है। जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के किशोरों को शत प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य प्राप्त कर चुका है और प्रदेश सरकार ने अब स्वास्थ्य कार्यकत्र्ता और फ्रंट लाइन वर्कर और वरिष्ठ नागरिकों को शत प्रतिशत एहतियातन खुराक देने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

Live TV

-->

Loading ...