dharam,diamond,religion news,Latest News, Dainik Savera, Dainik Savera News, Dainik Savera No.one, D

जानिए किन राशि वालों को धारण करना चाहिए हीरा रत्न और इससे मिलने वाले फायदे

रत्नों का मनुष्य के जीवन पर निश्चित रूप से प्रभाव पड़ता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार रत्नों में अलौलिक शक्तियां होती हैं यदि रत्न सही समय में और ग्रहों की सही स्थिति को देखकर धारण किए जाएं तो उनका सकारात्मक प्रभाव प्राप्त होता है। आज हम बात करने जा रहे हैं हीरा रत्न के बारे में।

हीरा धारण करने के फायदे: 
हीारा शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए पहना जाता है। हीरा अगर सूट कर जाए तो जीवन में सुख सुविधाओं की कोई कमी नहीं होने देता है। इसे पहनने से आत्मविश्वास मजबूत होता है। प्रेम संबंधों में मिठास आती है। वैवाहिक जीवन के लिए ये बहुत ही शुभ माना गया है। ज्योतिषियों के अनुसार कला, मीडिया, फिल्म या फिर फैशन से जुड़े लोगों के लिए ये रत्न बेहद ही शुभ साबित हो सकता है। लेकिन ज्योतिषीय परामर्श के बिना कभी भी इसे धारण न करें।

कौन धारण कर सकता है हीरा:
वृष, मिथुन, कन्या, मकर, तुला और कुंभ लग्न में जन्मे लोगों के लिए ये रत्न शुभ होता है। सबसे अधिक लाभकारी वृषभ और तुला लग्न वालों के लिए होता है। क्योंकि तुला और वृष लग्न के स्वामी खुद शुक्र ग्रह हैं। वहीं मेष, सिंह, वृश्चिक, धनु और मीन लग्न वालों के लिए हीरा शुभ नहीं माना गया है। खासतौर पर वृश्चिक लग्न वालों को हीरा भूलकर भी नहीं पहनना चाहिए। यदि आप फैशन के तौर पर भी हीरा धारण कर रहे हैं तो ज्योतिषाचार्य की सलाह जरूर लें। अगर कुंडली में शनि और शुक्र ग्रह उच्च के स्थित हैं तो भी आप हीरा धारण कर सकते हैं।

हीरा धारण करने की विधि:
हीरा 0.50 से 2 कैरेट तक का चांदी या सोने की अंगूठी में जड़वाकर पहनना चाहिए। इसे शुक्ल पक्ष के शुक्रवार को सूर्य के उदय होने के बाद धारण करना चाहिए। हीरा धारण करने से पहले इसे दूध, गंगा जल, मिश्री और शहद मिश्रित पानी में डाल कर रख दें। उसके बाद धूप दिखाकर शुक्र देव के बीज मंत्र का 108 बार जाप करें और हीरे की अंगूठी को मां लक्ष्मी के चरणों में रख दें। फिर इसके कुछ देर बाद इसे धारण कर लें। ज्योतिषियों का कहना है कि हीरा अपना प्रभाव 20 से 25 दिन में दिखाना शुरू कर देता है। फिर 6 से 7 साल बाद इसे चेंज कर लें नया हीरा धारण कर लें।


Live TV

Breaking News


Loading ...