पुत्रदा एकादशी

आज पुत्रदा एकादशी पर इस तरह खोले अपना व्रत और जानिए इसकी पूजा विधि

आज पुत्रदा एकादशी है। पुत्रदा एकादशी अपने पुत्र की लम्बी आयु और अच्छे जीवन के लिए रखा जाता है। यह व्रत दो तरह से रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पुत्र की प्राप्ति होती है और उसका जीवन अच्छा और सरल बनता है। इस दिन भगवान श्रीहरि विष्णु जी की पूजा की जाती है और अपना व्रत खोला जाता है। आज पुत्रदा एकादशी पर जानिए इस व्रत जी पूजा और पूजा विधि के बारे में। 

- पुत्रदा एकादशी का व्रत करने वाले व्यक्ति को एक दिन पहले ही अर्थात् दशमी तिथि की रात्रि से ही व्रत के नियमों का पूर्ण रूप से पालन करना चाहिए। दशमी के दिन शाम में सूर्यास्त के बाद भोजन ग्रहण नहीं करना चाहिए और रात्रि में भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए सोना चाहिए।

- सुबह सूर्योदय से पहले उठकर नित्य क्रिया से निवृत्त होकर स्नान करके शुद्ध व स्वच्छ धुले हुए वस्त्र धारण करके श्रीहरि विष्‍णु का ध्यान करना चाहिए।

- अगर आपके पास गंगाजल है तो पानी में गंगा जल डालकर नहाना चाहिए।

- इस पूजा के लिए श्रीहरि विष्णु की फोटो के सामने दीपक जलाकर व्रत का संकल्प लेने के बाद कलश की स्थापना करनी चाहिए।

- फिर कलश को लाल वस्त्र से बांधकर उसकी पूजा करें।

- भगवान श्रीहरि विष्णु की प्रतिमा रखकर उसे स्नानादि से शुद्ध करके नया वस्त्र पहनाएं।

- तत्पश्चात धूप-दीप आदि से विधिवत भगवान श्रीहरि विष्णु की पूजा-अर्चना तथा आरती करें तथा नैवेद्य और फलों का भोग लगाकर प्रसाद वितरण करें।

- श्रीहरि विष्णु को अपने सामर्थ्य के अनुसार फल-फूल, नारियल, पान, सुपारी, लौंग, बेर, आंवला आदि अर्पित किए जाते हैं।

- एकादशी की रात में भगवान का भजन-कीर्तन करना चाहिए।

- पूरे दिन निराहार रहकर संध्या समय में कथा आदि सुनने के पश्चात फलाहार किया जाता है।

- दूसरे दिन ब्राह्मणों को भोजन तथा दान-दक्षिणा अवश्य देनी चाहिए, उसके बाद पारणा करना चाहिए।

- इस दिन दीपदान करने का बहुत महत्व है।

- इस व्रत के पुण्य से मनुष्य तपस्वी, विद्वान होता है, तथा पुत्र प्राप्ति होकर अपार धन-लक्ष्मी को प्राप्त करता है।



Live TV

Breaking News


Loading ...