कमिश्नरेट पुलिस काे मिली बड़ी सफलता, नगर निगम अधिकारी बताकर बिल्डिंग मालिक से पैसे वसूले करने वाले गिराेह का किया पर्दाफश

कमिश्नरेट पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया हैं। पुलिस ने लुटेरों के पास से 5000 नकद और 4 मोबाइल बरामद किए हैं।

जालंधर (पंकज) : पुलिस कमिश्नर स्वपन शर्मा के नेतृत्व में जालंधर कमिश्नरेट पुलिस ने खुद को सरकारी अधिकारी बताकर लोगों से पैसे ऐंठने वाले चार सदस्यीय गिरोह का भंडाफोड़ किया है। इस संबंध में जानकारी देते हुए पुलिस कमिश्नर ने बताया कि जालंधर के ढिल्लवां गांव के रहने वाले कश्मीर सिंह के बेटे चतर सिंह ने सनी महिंदरू, अजय कुमार, मीठी और मनप्रीत सिंह के खिलाफ जबरन वसूली के आरोप में शिकायत दर्ज कराई थी. उन्होंने कहा कि शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि ये चारों खुद को जालंधर नगर निगम का फील्ड अधिकारी बताकर उसके निर्माणाधीन घर पर आए थे। स्वपन शर्मा ने बताया कि इन ठगों ने चतर सिंह से कहा कि भवन निर्माण की कोई अनुमति नहीं है और इसे गिराने की धमकी भी दी।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि फिर उन्होंने इमारत मालिक से 10,000 रुपए की मांग की, जिसके बाद उसने उन्हें 5,000 रुपए दिए। हालांकि, उन्होंने कहा कि शुरुआती भुगतान के बाद इमारत के मालिक को धोखेबाजों के व्यवहार पर संदेह हो गया, जिसके कारण उन्होंने तुरंत ईआरएस टीम और पुलिस स्टेशन को फोन किया। स्वपन शर्मा ने बताया कि पुलिस बल ने तुरंत लॉरेंस स्कूल के पास से चार सदस्यीय गिरोह को गिरफ्तार कर लिया, जिनकी पहचान मनप्रीत सिंह पुत्र तरलोचन सिंह निवासी मोहल्ला नंबर 170/बी, अवतार नगर, दूरदर्शन केंद्र जालंधर, सन्नी महेंद्रू पुत्र नरिंदर महेंद्रू निवासी मकान नंबर 55, न्यू बलदेव नगर, किशनपुरा, जालंधर, अजय कुमार पुत्र मोहन लाल निवासी तेलवाली गली, छोटा अली मोहल्ला, जालंधर, मिष्टी पुत्री सफीक निवासी 174, मॉडल हाउस जालंधर के रूप में हुई।

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि थाना रामा मंडी जालंधर में एफआईआर/केस 43 दिनांक 08-02-2024 के तहत 384,419,420,34 आईपीसी दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि इस गिरोह की पृष्ठभूमि अलग-अलग विभागों के कर्मचारी बनकर ठगी करने की रही हैं। स्वपन शर्मा ने कहा कि मामले की आगे जांच की जा रही है और विवरण बाद में साझा किया जाएगा।

Author

- विज्ञापन -

Latest News