सौरभ तिवारी ने क्रिकेट से लिया संन्यास, धोनी से होती थी तुलना

रणजी ट्रॉफी में झारखंड के लिए खेल रहे सौरभ तिवारी ने सोमवार को 34 साल की उम्र में पेशेवर क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की।

जमशेदपुर: रणजी ट्रॉफी में झारखंड के लिए खेल रहे सौरभ तिवारी ने सोमवार को 34 साल की उम्र में पेशेवर क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की। 15 फरवरी से शुरू हो रहे झारखंड और राजस्थान का रणजी मैच उनके 17 साल से अधिक लंबे कैरियर का आखिरी मैच होगा। 11 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू करने वाले तिवारी 2006-07 के रणजी ट्रॉफी सीजन में अपनी छाप छोड़ते हुए आगे बढ़े।

वह 2008 में मलेशिया में अंडर-19 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य थे। दो साल बाद आईपीएल में उन्होंने मुंबई इंडियंस के लिए दमदार प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने 18 छक्के, टीम के लिए सबसे अधिक जड़े और रणजी ट्रॉफी में झारखंड के लिए तीन शतक ठोके, जिससे उन्हें जून 2010 में एशिया कप के लिए भारत में कॉल-अप अजिर्त करने में मदद की।

हालांकि, उन्हें अपने वन डे डेब्यू के लिए अक्तूबर तक इंतजार करना पड़ा, जो आस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू श्रृंखला में हुआ। अपने तीन वन डे मैचों में से दो में वह नाबाद रहे और 49 रन बनाए। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के मुकाबले तिवारी को घरेलू सर्किट में अपनी असली पहचान मिली और वह अपनी राज्य टीम के लिए एक दिग्गज खिलाड़ी बन गए।

Author

- विज्ञापन -

Latest News