Meet Hayer द्वारा पहला राज्य स्तरीय विज्ञान STI डेटा पोर्टल लॉन्च करने पर PSCST के प्रयासों की सराहना की

Spread the News

चंडीगढ़: पंजाब के विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर ने आज देश का अपनी किस्म का पहला राज्य स्तरीय विज्ञान, प्रौद्यौगिकी इनोवेशन (एस.टी.आई.) डेटा पोर्टल लॉन्च करने के लिए पंजाब स्टेट साइंस एंड टैक्रॉलॉजी काऊंसिल (पी.एस.सी.एस.टी.) के प्रयासों की सराहना की। यह डेटा पोर्टल पी.एस.सी.एस.टी. द्वारा विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी विभाग, भारत सरकार के सहयोग से विकसित किया गया है। मीत हेयर ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली राज्य सरकार अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी के मुख्य क्षेत्र में नवीनतम तकनीकी पहलकदमियों को प्रोत्साहित करने के लिए पूरी तरह से वचनबद्ध है। उन्होंने आगे कहा कि यह पोर्टल एक ही प्लेटफॉर्म पर राज्य के एस.टी.आई. ईकोसिस्टम सम्बन्धी समूची जानकारी प्रदान करता है।

यह पोर्टल राज्य में बुनियादी ढांचे, सुविधाएं, साजो-सामान, अनुसंधान विशेषज्ञता, इनक्यूबेशन और एक्सीलीरेशन स्पेसिस, अलग-अलग संसथाओं/संगठनों के पास उपलब्ध प्रौद्योगिकियों के व्यापक स्रोतों के बारे में जानकारी तक पहुँच भी प्रदान करता है, जिसका प्रयोग राज्य के अंदर और बाहर विद्यार्थियों, खोजकर्ताओं और उद्योगों द्वारा की जा सकती है। यह पोर्टल भारत सरकार द्वारा आयोजित इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में स्टेट साइंस एंड टैक्रॉलॉजी काऊंसिल्स के सम्मेलन के दौरान भारत सरकार के विज्ञान, प्रौद्यौगिकी और वातावरण विभाग के सलाहकार डॉ. देबाप्रिया दत्ता द्वारा लॉन्च किया गया।

डॉ. दत्ता ने पंजाब को पोर्टल विकसित करने वाला पहला राज्य बनाने के लिए पी.एस.सी.एस.टी. के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने बताया कि पी.एस.सी.एस.टी. एक मॉडल एस. एंड. टी. काऊंसिल के तौर पर उभरी है, इसलिए इसको स्टेट एस.टी.आई. डेटा फ्रेमवर्क के साथ-साथ पोर्टल को विकसित करने की जि़म्मेदारी सौंपी गई है। उन्होंने आगे बताया कि अब इस पोर्टल की तजऱ् पर देश के अन्य राज्यों द्वारा भी इसको विकसित किया जाएगा। डॉ. जतिन्दर कौर अरोड़ा, कार्यकारी डायरैक्टर, पी.एस.सी.एस.टी. ने डेटा पोर्टल की मुख्य विशेषताओं के बारे में एक संक्षिप्त पेशकारी दी।

उन्होंने बताया कि पंजाब का एस.टी.आई. ईकोसिस्टम तैयार करने और इसके मज़बूतीकरण के लिए यह पहल की गई। मॉडल एस.टी.आई. डेटा आर्किटेक्चर फ्रेमवर्क को लगभग 50 एस.टी.आई. सूचकों के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए तैयार किया गया है, जिसके लिए राज्य के सभी सम्बन्धित हिस्सेदारों जैसे अनुसंधान संस्थाओं, वैज्ञानिक संस्थाओं, यूनिवर्सिटियों, विकास विभागों आदि को शामिल किया गया है।

डॉ. रशमी शर्मा, वैज्ञानिक एफ, विज्ञान और प्रौद्यौगिकी विभाग, भारत सरकार ने बताया कि डी.एस.टी., भारत सरकार पंजाब के साथ-साथ कुछ अन्य राज्यों में एस.टी.आई. डेटा सैंटरों की स्थापना में सहायता करके इस पहल को मज़बूत करने की योजना बना रही है, जो पंजाब द्वारा विकसित किए गए मॉडल को अपनाएँगे। पी.एस.सी.एस.टी. के ज्वाइंट डायरैक्टर डॉ. दपिन्दर बख्शी ने बताया कि पोर्टल सैंटर फॉर टैक्नॉलॉजी, इनोवेशन एंड इक्नॉमिक रिसर्च, पुणे और सीडैक मोहाली के सहयोग से तैयार किया गया है। इस पोर्टल के लॉन्च इवेंट में राज्य की अलग-अलग यूनिवर्सिटियों और संस्थाओं के प्रमुखों के साथ-साथ देश भर की विज्ञान और प्रौद्यौगिकी काऊंसिलों के प्रमुखों ने व्यक्तिगत/वर्चुअल तौर पर शिरकत की।