January महीने में Gold में आई चार प्रतिशत की तेजी, दोहरा सकता है पिछले साल का प्रदर्शन’

Spread the News

मुंबई: घरेलू बाजार में सोने में नए वर्ष में भी तेज बनी हुआ है और पश्चिमी देशों में मंदी गहराने और डालर की नरमी के बीच जनवरी माह में अब तक पीली धातु में चार प्रतिशत तेजी आ चुकी है। बाजार का अनुमान है कि सोना आने वाले समय में 58-59,000 रुपये के दायरे में पहुंच सकता है। वर्ष 2022 में सोने में निवेशकों को 10 प्रतिशत से अधिक का फायदा हुआ था।

बाजार को लग रहा है कि सोना 2023 में इसे दोहराने के लिए तैयार है। मुंबई में कामा ज्वैलरी के प्रबंध निदेशक कॉलिन शाह ने एक टिप्पणी में कहा, “2022 में दोहरे अंकों में रिटर्न देने के बाद, सोना 2023 में इसे दोहराने के लिए तैयार दिख रहा है। अकेले जनवरी महीने में सोने की कीमतों में लगभग चार प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने कहा कि सोने का भाव इस समय गत नवंबर के निचले स्तर से 7,000 रुपये प्रति 10 ग्राम से अधिक चढ़ गया। नवंबर में भाव फिसल कर पचास हजार रुपये से नीचे चला गया था।

इंडिया बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार पहली जनवरी को सोना 54,930 रुपये के ऊपर था, जो आज 57,362 से ऊपर पहुंच गया। श्री शाह ने कहा कि सोने में तेजी का मुख्य कारण अमेरिकी डॉलर की कमजोरी है। अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने नीतिगत ब्याज दर में वृद्धि धीमी करने या इस चक्र में अधिकतम 0. 25 प्रतिशत की एक अंतिम वृद्धि किए जाने का संकेत दिया है।

पश्चिम में मंदी अमेरिकी डॉलर को कमजोर कर रही है और सोने को मजबूती प्रदान कर रही है। उन्होंने कहा कि चीन, भारत और रूस जैसे प्रमुख देश अपने आयात के लिए अपनी मुद्राओं में भुगतान कर रहे हैं-एक ऐसा कदम जो अमेरिकी डॉलर पर दबाव डाल रहा है। उन्होंने कहा, “आगे चलकर हमें सोने की कीमतों में कुछ और तेजी की उम्मीद है। घरेलू स्तर पर सोने की कीमतें 58,000-59,000 रुपये के स्तर पर पहुंचने की उम्मीद है। वैश्विक बाजार में कीमतों के पहले के उच्च स्तर को छूने और 2060-2100 डालर प्रति औंस के दायरे में रहने संभावना है।”