राम रहीम जानबूझ कर सिखों की धार्मिक भावनाओं को भड़का रहे हैं: Harjinder Singh Dhami

Spread the News

अमृतसर: शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने डेरा सिरसा प्रमुख गुरमीत राम रहीम द्वारा सिखों के धार्मिक चिन्ह कृपाण से केक काटकर सिख समुदाय की धार्मिक भावनाओं को भड़काने के लिए कड़ी निंदा की है। एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने कहा कि सौदा साध जानबूझकर सिखों की धार्मिक भावनाओं को भड़काकर राज्य के शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं और सरकारें शांत हैं।

उन्होंने कहा कि कृपाण सिखों का महत्वपूर्ण धार्मिक प्रतीक है, जिसे सिख समुदाय बर्दाश्त नहीं कर सकता। सौदा साध ने कृपाण से केक काटकर सिख ककार की इज्जत को ठेस पहुंचाई है। बलात्कार और हत्या के संगीन आरोप में सजा काट रहे ऐसे अपराधी को सरकार द्वारा बार-बार पैरोल पर रिहा किया जा रहा है और वह जानबूझकर बाहर निकलकर सिखों की धार्मिक भावनाओं को भड़का रहा है। देश का संविधान सभी को अपनी धार्मिक भावनाओं की कद्र करना सिखाता है और किसी को भी किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का अधिकार नहीं है। धामी ने कहा कि यह दुःख की बात है कि सरकार ऐसे अपराधी को विशेष छूट दे रही है जो देशहित में नहीं है। शिरोमणि कमेटी के अध्यक्ष ने सरकार से मांग की कि सौदा साध की पैरोल तत्काल रद्द कर उसे सलाखों के पीछे भेजा जाए।