Kisan Andolan : किसानों के ‘दिल्ली-चलो’ कूच से पहले सीमाओं की किलेबंदी, सभी की निगाहें दूसरे दौर की बैठक पर टिकीं

दिल्ली कूच की मुहिम को रोकने के लिए जींद और फतेहाबाद जिलों की सीमाओं पर भी व्यापक इंतजाम किए गए हैं।

चंडीगढ़। किसानों के 13 फरवरी को प्रस्तावित ‘दिल्ली चलो’ अभियान ट्रैक्टर, बस सहित अन्य साधनों से दिल्ली कूच करने के एलान के बाद पुलिस सतर्क हो गई है। किसानों के कूच से पहले ही हरियाणा के अधिकारियों ने अंबाला के पास शंभू में पंजाब के साथ लगती सीमा को सील कर दिया है। दिल्ली कूच की मुहिम को रोकने के लिए जींद और फतेहाबाद जिलों की सीमाओं पर भी व्यापक इंतजाम किए गए हैं। शांति भंग होने की आशंका के चलते हरियाणा सरकार ने सात जिलों- अंबाला, कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद, हिसार, फतेहाबाद और सिरसा में 11 से 13 फरवरी तक मोबाइल इंटरनेट सेवाएं और एक साथ कई एसएमएस करने की सेवा को निलंबित कर दिया है।

किसानों को राष्ट्रीय राजधानी की ओर जाने से रोकने की हरियाणा के अधिकारियों की कोशिशों के बीच केंद्र ने उन्हें आज उनकी मांगों पर चर्चा के लिए एक और बैठक आयोजित करने के वास्ते आमंत्रित किया है। संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा ने 13 फरवरी को 200 से अधिक किसान संघों द्वारा ‘दिल्ली चलो’ की घोषणा की थी, ताकि फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी के वास्ते कानून बनाने सहित कई मांगों को स्वीकार करने को लेकर केंद्र पर दबाव डाला जा सके।

शंभू सीमा पर आवाजाही रोकने के लिए लगे कंटीले तार
शंभू सीमा पर घग्गर फ्लाईओवर पर सड़क यातायात के लिए बंद है और पुलिस ने सड़क पर सीमेंट के अवरोधक लगा दिए हैं। शंभू सीमा पर कंटीले तार, रेत की बोरियां, कंक्रीट ब्लॉक अवरोधक और अन्य सामान जमा कर लिया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने रविवार को कहा कि जींद में, हरियाणा-पंजाब सीमा के पास दो सड़कों को वाहनों की आवाजाही के लिए बंद कर दिया गया है तथा दो और सड़कों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

नई दिल्ली: किसानों के ‘दिल्ली चलो मार्च’ के मद्देनजर गाज़ीपुर बॉर्डर पर पुलिस बैरिकेड्स लगाए गए हैं। उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब से बड़ी संख्या में किसानों के मार्च करने की उम्मीद है।

सभी लोगों की बैठक पर टिकीं निगाहें
आज शाम किसानों की चंडीगढ़ में तीन संघीय मंत्रियों के साथ बैठक होगी। सबकी निगाहें किसान नेताओं व केंद्रीय मंत्रियों की चंडीगढ़ में शाम पांच बजे होने वाली बैठक पर टिक गई हैं। इसमें केंद्र की ओर से केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, पीयूष गोयल और नित्यानंद राय व पंजाब के सीएम भगवंत मान और अलग-अलग किसान संगठनों के 10 प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे।

किसान मजदूर संघर्ष कमेटी का एक बड़ा जत्था ब्यास से हुआ रवाना
किसान मजदूर संघर्ष कमेटी का एक बड़ा जत्था आज माझे के कस्बे ब्यास से रवाना हुआ है, जो आज किसान फतेहगढ़ साहिब में रहेंगे। सरवन सिंह पंढेर के नेतृत्व में हजारों किसान आज यहां से रवाना होते हुए कहा है कि आज केंद्रीय मंत्रियों के साथ किसानों की बैठक के बाद फैसला लिया जाएगा कि किसान कल दिल्ली के लिए रवाना होंगे या नहीं।

Author

- विज्ञापन -

Latest News