पंचांग और शुभ मुहूर्त 13 दिसंबर 2022

शुभ विक्रम संवत्-2079, शक संवत्-1944, हिजरी सन्-1443, ईस्वी सन्-2022 संवत्सर नाम-राक्षस अयन-दक्षिणायण मास-पौष पक्ष-कृष्ण ऋतु-हेमन्त वार-मंगलवार तिथि (सूर्योदयकालीन-पंचमी नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-आश्लेषा योग (सूर्योदयकालीन)-वैधृति करण (सूर्योदयकालीन)-कौलव लग्न (सूर्योदयकालीन)-वृश्चिक शुभ समय-10:46 से 1:55, 3:30 5:05 तक राहुकाल- दोप. 3:00 से 4:30 बजे तक दिशा शूल-उत्तर योगिनी वास-दक्षिण गुरु तारा-उदित शुक्र तारा-उदित चंद्र स्थिति-सिंह व्रत/मुहूर्त-सर्वार्थसिद्धि योग/रवियोग यात्रा शकुन- दलिया.

शुभ विक्रम संवत्-2079, शक संवत्-1944, हिजरी सन्-1443, ईस्वी सन्-2022
संवत्सर नाम-राक्षस
अयन-दक्षिणायण
मास-पौष
पक्ष-कृष्ण
ऋतु-हेमन्त
वार-मंगलवार
तिथि (सूर्योदयकालीन-पंचमी
नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-आश्लेषा
योग (सूर्योदयकालीन)-वैधृति
करण (सूर्योदयकालीन)-कौलव
लग्न (सूर्योदयकालीन)-वृश्चिक
शुभ समय-10:46 से 1:55, 3:30 5:05 तक
राहुकाल- दोप. 3:00 से 4:30 बजे तक
दिशा शूल-उत्तर
योगिनी वास-दक्षिण
गुरु तारा-उदित
शुक्र तारा-उदित
चंद्र स्थिति-सिंह
व्रत/मुहूर्त-सर्वार्थसिद्धि योग/रवियोग
यात्रा शकुन- दलिया का सेवन कर यात्रा पर निकलें।
आज का मंत्र-ॐ अं अंगारकाय नम:।
आज का उपाय-हनुमान मंदिर में पंचमुखा दीपक प्रज्ज्वलित करें।
वनस्पति तंत्र उपाय- खैर के वृक्ष में जल चढ़ाएं।

Author

- विज्ञापन -

Latest News