चीन द्वारा स्थापित पहली बहुपक्षीय वित्तीय संस्था– एआईआईबी

4 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग दिवस है। जानकारी के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 19 दिसंबर 2019 को, सतत विकास के धन जुटाने में बहुपक्षीय और अन्य अंतरराष्ट्रीय विकास बैंकों के योगदान और बेहतर जीवन स्तर में योगदान देने में सदस्य देशों की बैंकिंग प्रणालियों की महत्वपूर्ण भूमिका को मान्यता देते हुए 4 दिसंबर को.

4 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग दिवस है। जानकारी के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 19 दिसंबर 2019 को, सतत विकास के धन जुटाने में बहुपक्षीय और अन्य अंतरराष्ट्रीय विकास बैंकों के योगदान और बेहतर जीवन स्तर में योगदान देने में सदस्य देशों की बैंकिंग प्रणालियों की महत्वपूर्ण भूमिका को मान्यता देते हुए 4 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग दिवस के रूप में स्थापित किया।

एशिया में कनेक्टिविटी के निर्माण और आर्थिक एकीकरण की प्रक्रिया को बढ़ावा देने और चीन और अन्य एशियाई देशों व क्षेत्रों के बीच सहयोग को मजबूत करने के लिए अक्टूबर 2013 में, इंडोनेशिया की यात्रा के दौरान, चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने एशियाई आधारभूत निवेश बैंक (एआईआईबी) की स्थापना का प्रस्ताव रखा, जिसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय से व्यापक समर्थन और भागीदारी मिली है। दिसंबर 2015 में, एआईआईबी औपचारिक रूप से स्थापित किया गया, जो चीन द्वारा शुरू किया गया पहला बहुपक्षीय वित्तीय संस्थान बना, जिसका मुख्यालय पेइचिंग में है। वर्तमान में एआईआईबी के 105 सदस्य हैं, जिनमें भारत, ब्रिटेन, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया आदि शामिल हैं। अपनी स्थापना से लेकर अब तक, पिछले 7 सालों में एआईआईबी ने 36.4 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक की कुल वित्तपोषण राशि के साथ 191 परियोजनाओं को मंजूरी दी है, और निजी क्षेत्र सहित विभिन्न क्षेत्रों के 85 अरब डॉलर से अधिक जुटाए हैं, जिससे 33 विकासशील देशों को लाभ पहुंचा है। इन परियोजनाओं में परिवहन, ऊर्जा, शहरी विकास और जल संसाधनों के साथ-साथ सार्वजनिक स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में सामाजिक बुनियादी ढांचे का निर्माण शामिल है। इसके अलावा, एआईआईबी ने सदस्यों को जलवायु परिवर्तन से निपटने और हरित परिवर्तन को बढ़ावा देने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 2021 में, जलवायु परिवर्तन से संबंधित परियोजनाओं में निवेश कुल निवेश का 48 प्रतिशत था। 

एआईआईबी की स्थापना विश्व आर्थिक संरचना के समायोजन और विकास की प्रवृत्ति के अनुरूप है, और वैश्विक आर्थिक शासन प्रणाली के विकास को और अधिक उचित, प्रभावी दिशा में बढ़ावा देने में मदद करेगी। एआईआईबी की स्थापना के बाद से, सभी सदस्यों ने एक खुला और समावेशी सहकारी रवैया, सामान्य विकास की तलाश के लिए व्यावहारिक कार्रवाई दिखाई है। एआईआईबी विकसित और विकासशील देशों के लिए संयुक्त रूप से लाभकारी अनुभव और सर्वोत्तम विकास पथ का पता लगाने के लिए एक प्रभावी मंच बन चुका है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

Author

- विज्ञापन -

Latest News