विश्वास और समर्थन से भरे हैं चीन-अरब संबंध

चीन में जब अरब के बारे में बात करते हैं, तो लोगों को निकटता की स्वाभाविक भावना होती है। अरब की सभ्यता में शांति, सहिष्णुता अवधारणाओं की वकालत करने की अवधारणा, सद्भाव और शांति चीनी सभ्यता की संबंधित अवधारणाओं से मिलती जुलती है।  कतर फीफा विश्व कप के उद्घाटन से पहले कई पश्चिमी राजनीतिक शक्तियों.

चीन में जब अरब के बारे में बात करते हैं, तो लोगों को निकटता की स्वाभाविक भावना होती है। अरब की सभ्यता में शांति, सहिष्णुता अवधारणाओं की वकालत करने की अवधारणा, सद्भाव और शांति चीनी सभ्यता की संबंधित अवधारणाओं से मिलती जुलती है। 

कतर फीफा विश्व कप के उद्घाटन से पहले कई पश्चिमी राजनीतिक शक्तियों ने मानवाधिकार का झंडा उठाकर तथाकथित राजनयिक बहिष्कार का ढिंढोरा पीटा। चीन ने कतर का दृढ़ समर्थन किया और विभिन्न माध्यमों से कतर में विश्व कप के आयोजन में सहायता की। फरवरी, 2022 में पेइचिंग शीतकालीन ओलंपिक समय पर आयोजित हुआ। जब कुछेक देशों ने बहिष्कार करने की बात कही। मिस्र, संयुक्त अरब अमीरात और कतर आदि देशों के नेताओं ने चीन आकर शीतकालीन ओलंपिक के उद्घाटन समारोह में हिस्सा लिया और यथार्थ कार्रवाइयों से चीन का समर्थन किया।

चीन और अरब देशों के बीच आपसी समर्थन कभी नहीं रुकता है। अगस्त, 2022 में अमेरिकी सीनेट की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने थाईवान की यात्रा की। सभी 22 अरब देशों ने एक-चीन सिद्धांत को दोहराया और 18 देशों की सरकारों ने बयान जारी कर चीन का समर्थन किया। इस अक्टूबर माह में जब अमेरिका आदि पश्चिमी देशों ने मानवाधिकार परिषद की 51वीं बैठक में शिनच्यांग संबंधी प्रस्ताव मसौदे को पारित करने की कुचेष्टा की। अरब देशों ने चीन के साथ खड़े होकर समर्थन दिखाया। अभी तक चीन 12 अरब देशों और अरब लीग के साथ सामरिक साझेदारी या तमाम सामरिक साझेदारी संबंधों की स्थापना कर चुका है।चीन और अरब देशों के बीच विश्वास बहुत मजबूत है, जो पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है। जनवरी, 2016 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अरब लीग के मुख्यालय में संबोधन करते हुए जो बात कही, इससे चीन-अरब मैत्री का सार प्रदर्शित होता है।

2008 में जब चीन के सछ्वान प्रांत के वनछ्वान में भारी भूकंप आया, सऊदी अरब ने समय पर चीन को 6 करोड़ से ज्यादा यूएस डॉलर मूल्य वाली सहायता दी। अरब देशों में कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद चीन ने कई सौ चिकित्सकों को भेजा और मिस्र के साथ अफ्रीका की प्रथम कोविड-19 वैक्सीन की उत्पादन लाईन की स्थापना की। अक्तूबर, 2022 तक चीन ने अरब देशों को कोविड-19 वैक्सीन की कुल 34 करोड़ खुराकें प्रदान कीं।साथ ही, चीन और अरब देश बेल्ट एंड रोड के स्वाभाविक सहयोग साझेदार हैं। अभी तक चीन 20 अरब देशों और अरब लीग के साथ बेल्ट एंड रोड सहयोग दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर चुके हैं। आज मिस्र की 2035 समग्र सतत ऊर्जा रणनीति, सऊदी अरब की 2030 वीजन, कतर की 2030 राष्ट्रीय विजन आदि अरब देशों की विकास रणनीतियां चीन की बेल्ट एंड रोड पहल के साथ गहन रूप से जुड़ी हैं। 

अमेरिका के प्रिंसटन विश्वविद्यालय में इराक, जॉर्डन और लेबनान जैसे 9 अरब देशों के पोल दिखाते हैं कि अरब देशों में लोगों के बीच अमेरिका की तुलना में चीन के प्रति बेहतर भावना है।

नया साल आने वाला है। हमें आशा हैं कि आपसी लाभ वाले चीन-अरब सहयोग अवश्य ही दुनिया को और ज्यादा आशा ला सकेंगे।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

Author

- विज्ञापन -

Latest News