राष्ट्रीय कायाकल्प के लिए हमें करना पड़ता है अधिक प्रयास

आर्थिक सुधारों की शुरुआत के बाद से हमें लगता है कि समाज की गति तेज हो गई है। मुझे याद है कि 1990 के दशक में दिल्ली का धीमी गति से चलने वाला समाज रहता था। उस समय, चाहे सड़क पर चलने वाली कारें हों, या पैदल चलने वाले लोग हों, सभी आराम से काम.

आर्थिक सुधारों की शुरुआत के बाद से हमें लगता है कि समाज की गति तेज हो गई है। मुझे याद है कि 1990 के दशक में दिल्ली का धीमी गति से चलने वाला समाज रहता था। उस समय, चाहे सड़क पर चलने वाली कारें हों, या पैदल चलने वाले लोग हों, सभी आराम से काम करते दिखते थे। उस समय की लोकप्रिय फिल्मों और संगीत का धूंन भी धीमा लगता था। लेकिन आज सब कुछ बदल गया है। समाज की गति तेज हो रही है, लोगों के कार्यों में तेजी आ रही है और सरकार की कार्य क्षमता में भी काफी सुधार दिखता है।

हालाँकि, एक तेज़-तर्रार समाज की कीमत भी चुकानी पड़ती है, यानी कि हर किसी को अधिक तेज़ी से काम करने की ज़रूरत है, और लोगों को विभिन्न अवसरों की तलाश अधिक घबराहट से करनी पड़ती है। परिणामस्वरूप, लोगों को लगता है कि वे पहले की तुलना में अधिक थके हुए हैं। और सामाजिक प्रतिस्पर्धा में हारने वालों में भी निराशा की अधिक भावनाएँ लगती हैं। उधर, विकसित देशों और कुछ समृद्ध तेल उत्पादक देशों के लोग हमसे अधिक फुर्सत वाले लगते हैं। वे प्रति सप्ताह तीन दिन की छुट्टी और साल में 100 दिन से अधिक की छुट्टियां ले सकते हैं, जबकि उनका औसत वेतन हमसे कहीं अधिक है।

अलग-अलग देशों में लोगों की भावनाएँ क्यों अलग होती हैं? ऐसा इसलिए है क्योंकि हम अपने महान राष्ट्रीय पुनरुत्थान के दौर से गुजर रहे हैं। यह सर्वविदित है कि चीन और भारत दोनों ने प्राचीन काल में महान सभ्यताएँ बनाई थीं और वे एक समय दुनिया के सबसे अमीर देश थे। उस समय, हमारे लोग भी एक समृद्ध जीवन जीते थे जिससे दुनिया के अन्य हिस्सों के लोग बेहद ईर्ष्यालु थे। हालाँकि, विज्ञान और प्रौद्योगिकी का पिछड़ा होने के कारण से, चीन और भारत आधुनिक युग में साम्राज्यवाद और उपनिवेशवाद के शिकार बन गए थे। हमारे देशों को बेरहमी से वंचित किया गया था और हम सबसे गरीब देश बन गये थे। हम विश्व की औद्योगिक और तकनीकी क्रांति की लहर से चूक गए, और हमारी अर्थव्यवस्था पिछड़ेपन में गिर गई। जबकि विकसित देशों में लोग अपने पूर्वजों द्वारा छोड़ी गई समृद्ध विरासत के साथ एक आरामदायक और समृद्ध जीवन का आनंद ले सकते हैं।

एक राष्ट्र एक परिवार की तरह होता है। यदि ऊपरी पीढ़ी बदकिस्मत है, तो निचली पीढ़ी को नुकसान उठाना पड़ेगा। हमारी पीढ़ी भविष्य की पीढ़ियों के लिए अधिक दबाव झेलने के लिए नियत है। इसलिए चीन और भारत ने 1940 के दशक के अंत में अपनी स्वतंत्रता के तुरंत बाद औद्योगीकरण का लक्ष्य निर्धारित किया, और फिर बाजार-उन्मुख आर्थिक सुधार शुरू किए। दशकों की कड़ी मेहनत व्यर्थ नहीं गई। अब, चीन दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। हमें विकसित देशों के बराबर पहुंचने और उनसे आगे निकलने में सक्षम बनाने के लिए पीढ़ियों की कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता है। अन्यथा हमारे बच्चे और पोते-पोतियां सुखी जीवन नहीं जी पाएंगे। राष्ट्र के कायाकल्प के लिए हमें और अधिक मेहनत करनी होगी।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

Author

- विज्ञापन -

Latest News