इस दिन है गणेश जयंती, जानिए क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Spread the News

हर साल माघ शुक्ल चतुर्थी को गणेश जयंती मनाई जाती है। इस दिन भगवान गणेश जी की पूजा रचना का विशेष महत्व माना जाता है। इस साल गणेश जयंती 24 जनवरी से शुरू हो रही है। गणेश जयंती की तिथि 24 जनवरी दोपहर से शुरु हो रही है और 25 जनवरी को दोपहर में खत्म हो रही है। इस दिन भगवान गणेश जी की पूरी विधि विधान के साथ शुभ मुहूर्त में पूजा अर्चना की जाती है। आइए जानते है क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में:

गणेश जयंती 2023 की स​ही तारीख
पंचांग या हिंदू कैलेंडर के अनुसार माघ शुक्ल चतुर्थी तिथि 24 जनवरी को दोपहर 03:22 बजे से लेकर 25 जनवरी को दोपहर 12:34 बजे तक है. अब सूर्योदय के समय चतुर्थी तिथि 25 जनवरी को है. इस वजह से गणेश जयंती 25 जनवरी को मनाई जाएगी.

गणेश जयंती पर बना है राज पंचक और रवि योग
इस साल गणेश जयंती के दिन राज पंचक लगा है. राज पंचक में धन, संपत्ति, सरकारी कार्यों को करने से सफलता प्राप्त होती है. राज पंचक शुभ फल प्रदान करने वाला समय है. जिस पंचक का प्रारंभ सोमवार से होता है, वह राज पंचक कहलाता है.

गणेश जयंती के अवसर पर रवि योग बना है. रवि योग अमंगल को दूर करने वाला और शुभता प्रदान करने वाला है. इस दिन सुबह 07:13 बजे से रात 08:05 बजे तक रवि योग है. रवि योग और परिघ योग में गणेश जयंती की पूजा होगी.

गणेश जयंती पूजा मुहूर्त 2023
गणेश जयंती को गणपति बप्पा की आराधना के लिए शुभ समय सुबह 11:29 बजे से लेकर दोपहर 12:34 बजे तक है. विनायक चतुर्थी की पूजा हमेशा दिन में करते हैं क्योंकि इस व्रत में चंद्रमा का दर्शन वर्जित होता है.

गणेश जयंती पर चंद्र दर्शन से लगेगा कलंक
जो लोग गणेश जयंती या विनायक चतुर्थी को चंद्रमा को देखते हैं, उन पर गलत कलंक लगता है. भगवान श्रीकृष्ण ने भी चौथ का चांद देखा था तो उन पर मणि चोरी करने का आरोप लगा था. इस वजह से ​शुक्ल पक्ष की चतुर्थी का चांद नहीं देखते हैं और सुबह में ही गणपति की पूजा कर लेते हैं. गणेश जयंती के दिन चंद्रोदय सुबह 09:54 बजे ही हो जाएगा. शुक्ल पक्ष में चंद्रोदय जल्दी होता है. गणेश जयंती पर गणपति बप्पा को प्रसन्न करके आप अपनी मनोकामनाएं पूरी कर सकते हैं.